Saturday, January 9, 2021

मुश्किल समस्याओं का निदान करना: आपको अपने सामान्य चिकित्सक के संपर्क में क्यों रहना चाहिए


 कुछ साल पहले की बात है। मुझे एक अस्पष्टीकृत बुखार था। मैंने अपने नेफ्रोलॉजिस्ट के साथ चर्चा की और हमनें  डायलिसिस से संबंधित सभी संभावनाओं के बारे में सोचा लेकिन यह निष्कर्ष नहीं निकाल सके कि इसका कारण क्या हो सकता है। फिर उन्होंने सुझाव दिया कि मैं एक सामान्य चिकित्सक (जनरल प्रैक्टिशनर, GP) को देखूँ। सलाह ने मुझे चौंका दिया। वह, एक नेफ्रोलॉजिस्ट, मुझे एक जीपी के पास क्यों भेजेंगे? आखिरकार, पहले के जैसा नहीं रहा की आप GP को ही देखते, कोई भी बीमारी हो। ये विशेषज्ञ और सुपर-विशेषज्ञ के दिन थे।

मै गलत था।

कई चीजें हैं जो एक GP कर सकते है जो कोई विशेषज्ञ नहीं कर सकते। विभिन्न स्थितियों में विस्तृत अंतर्दृष्टि उनके पास एक ऐसी हाई कला है। वे किसी एक विषय को भले ही बहुत गहराई से नहीं जानते, लेकिन वे विभिन्न विषयों के बारे में पर्याप्त रूप से जानते हैं। प्रारंभिक निदान में GP उत्कृष्ट माने जाते हैं।


खैर, इन दिनों विशेषज्ञ यह भी जानते हैं कि अधिकांश सामान्य परिस्थितियों से कैसे निपटना है। खासतौर पर क्रॉनिक किडनी डिजीज जैसी स्थितियों में, जहां मरीज कई वर्षों में अपने डॉक्टरों से सलाह लेते हैं, विशेषज्ञ भी नियमित परिस्थितियों के इलाज में माहिर हो जाते हैं।


हालांकि, अभी भी कुछ मुश्किल समस्याएं हैं जहां वे एक GP के अनुभव को महत्ता देते हैं।

 

उदाहरण के लिए, मेरा बुखार ही ले लो।


मेरे नेफ्रोलॉजिस्ट ने मुझे GP के पास भेजा। अस्पष्टीकृत बुख़ार के लिए, उनके पास एक स्थापित प्रोटोकॉल है। वे एक के बाद एक जाँच करवाते हैं जब तक वे कोई निदान पर नहीं आते। 


मेरे मामले में भी यही हुआ। हमने अंत में बुखार के कारण को खोज निकाला। GP ने मुझे इसके लिए उपचार दिया और मैं कुछ दिनों में ठीक हो गया।


इसलिए, जबकि डायलिसिस के रोगी सब समस्याओं के लिए नेफ्रोलॉजिस्ट पर भरोसा करते हैं, ऐसी समस्याओं के लिए अपने GP के संपर्क में रहना लाभदायक हो सकता है।

 

No comments: